लेख हिंदी

जीएसटी क्या है? जानिये हिंदी में – मतलब, प्रकार, दरें और जीएसटी के लिए कैसे रजिस्टर करें

जीएसटी क्या है kya hai gst मतलब, प्रकार, दरें और जीएसटी के लिए कैसे रजिस्टर करें

१ जुलाई को भारत सरकार ने कर भुगतान की नई प्रणाली की घोषणा की थी, जो जीएसटी है, जो टैक्स संग्रह की प्रक्रिया को पिछले टैक्स सिस्टम की तुलना में बहुत आसान बना देगा। जैसा कि जीएसटी भारत में एक नयी शुरू की गई कर प्रणाली है, कई लोग अभी भी जीएसटी के बारे में अनजान हैं। व्यवसायों के लिए यह अच्छा क्यों है? आम आदमी के लिए यह अच्छा क्यों है? जीएसटी के प्रकार क्या हैं? जीएसटी की दरें क्या हैं? जीएसटी के लिए पंजीकरण या आवेदन कैसे करें? चिंता न करें हम यहां आपके सभी सवालों के सरल भाषा में जवाब देने के लिए हैं। इस आर्टिकल में, हम आपको जीएसटी के बारे सारी बेसिक जानकारी देने की कोशिश करेंगे। तो चलो शुरू करते हैं।

जीएसटी के सन्दर्भ में और आर्टिकल्स यहां पढ़ सकतें हैं |
जीएसटी ऑनलाइन एप्लीकेशन कैसे करे?
GST के फायदे और नुकसान.
GST के परिणाम

जीएसटी क्या है? – पूर्ण रूप और अर्थ

जीएसटी का पूरा रूप (फुल फॉर्म) गुड्स और सर्विसेज टैक्स है। जीएसटी एक सरल, परिष्कृत और उपभोक्ता-अनुकूल कर प्रणाली है। जीएसटी भारत में पुराने अप्रत्यक्ष कर (इंडियरेक्ट टैक्स) प्रणालियों को बदलने के लिए लागू किया गया है| पिछले टैक्स सिस्टम में वैट (वैल्यू एडेड टैक्स), सर्विस टैक्स, सेस टैक्स, मनोरंजन टैक्स, बिक्री कर आदि जैसे कई भ्रमित करने वाले कर थे जो नाकी आम आदमी पर बिज़नेस वालोंको को भी परेशान करते थें | तो अब लोगोंको और व्यवसायों को केवल एक प्रकार की कर का भुगतान करना होगा जो जीएसटी है। जीएसटी एक खपत आधारित कर है जिसका मतलब है कि जीस राज्य में उत्पाद या सेवा का सेवन किया जाता है, वही कर जमा करेगा, नाकी जिसमें ऐसे सामान का निर्माण होता है। जीएसटी टैक्स सिस्टम “दोहरी जीएसटी” का रूप लेगा जो कि केंद्रीय और राज्य सरकार द्वारा समवर्ती लगाया जाता है।

जीएसटी के प्रकार / घटक क्या हैं?

जीएसटी तीन प्रकार के करों से बना है, सीजीएसटी, एसजीएसटी, आईजीएसटी हैं। अब देखते हैं कि ये प्रकार क्या हैं। इन करों को माल और सेवा के संचलन द्वारा निर्धारित किया जाता है यानी इन्ट्रास्टेट संचलन या अंतरराज्यीय संचलन.

सीजीएसटी

सेंट्रल जीएसटी – केन्द्रीय जीएसटी का मतलब है कि केंद्र सरकार द्वारा माल और / या सेवाओं की अंतर-राज्य आपूर्ति पर लगाया जाता है, इसका मतलब है कि इस प्रकार का कर केंद्र सरकार को दिया जाता है।

एसजीएसटी

एसजीएसटी मतलब राज्य जीएसटी – जो राज्य द्वारा माल और / या सेवाओं की राज्य के अंदर ही आपूर्ति पर ही लगाया जाता है, इसका मतलब है कि इस प्रकार का कर राज्य सरकार को दिया जाता है।

आईजीएसटी
आईजीएसटी इंटीग्रेटेड जीएसटी है I यह कर केंद्र सरकार को दिया जाता है जब माल एक राज्य में निर्मित होता है और दूसरे राज्य उसकी में खपत होती है। भारत में किए गए आयात और निर्यात के लिए आईजीएसटी भी लागू होता हैं|

जीएसटी भारत के लिए अच्छा क्यों है? जीएसटी के फायदे / लाभ / गुण

भारत एक सामूहिक अर्थव्यवस्था है जहां प्रत्येक राज्य के अपने अपने नियम और प्रोसेसेज हैं। यह देश का धीमी गति से विकास करता है, व्यवसायोंके कठिनाइयों का कारण बनता है और भ्रष्टाचार की उच्च संभावनाएं पैदा करता है। कर भुगतान की प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए और सरकार के साथ-साथ व्यापार दोनों के लिए एक विन-विन वातावरण बनाने और भ्रष्टाचार को कम करने के लिए, जीएसटी कर प्रणाली चालू की गयी है |

कर भुगतान का एक सरल तरीका
जीएसटी एक सरल कर प्रणाली है अब करदाता को किस प्रकार के करों को भुगतान करना चाहिए, इसके बारे में भ्रम नहीं होगा। केवल एक कर होगा, जो जीएसटी है। जीएसटी को शुरू करने के पीछे सरकार का एजेंडा “एक राष्ट्र, एक कर” है|

व्यवसायों के लिए अनुकूल परिस्तिथि

जीएसटी भारतीय व्यवसायों और निर्माताओं से करों के तनाव को कम करने जा रहा है। अब उन्हें कम कर देना पड़ता है, और इससे निश्चित रूप से एक बेहतर कारोबारी माहौल और लचीलेपन की संभावना बढ़ जाएगी।

ग्लोबल रेस के डटें रहना

भारत बिजली की गति से आर्थिक विकास कर रहन है| स्वीडन, डेनमार्क, जर्मनी, स्विटजरलैंड, जापान जैसे विकसित देश भी जीएसटी का उपयोग करते है। तो अब जीएसटी वैश्विक व्यापार के लिए एक मानक बन गया है और भारत प्रगति कर रहा है, एक समान, परिष्कृत कर प्रणाली को गले लगाने की आवश्यकता थी, जो है जीएसटी|

अधिक करदाता
जीएसटी निश्चित रूप से करदाताओं की संख्या में वृद्धि करेगा, जो टैक्स की दरों को कम करने में मदद करेगा क्योंकि अधिक लोग कर चुका रहे हैं|

भारत के लिए जीएसटी खराब क्यों है? जीएसटी के नुकसान

एक बड़ा बदलाव

जीएसटी भारत में एक बहोत ही नयी शुरू की गई कर प्रणाली है एक आम आदमी ऐसे अभी समझ नहीं पा रहां हैं , उन्हें पुराने कर प्रणाली की आदत हुई है| इसलिए यह पूरे बड़े परिवर्तन को पचाने और जीएसटी से परिचित होने में समय लगेगा। साथ ही, सभी व्यवसाय सॉफ्टवेयर, अकाउंटिंग और ईआरपी सॉफ्टवेयर जैसी प्रक्रियाओं को नवीनतम टैक्स सिस्टम के साथ अद्यतन करने की आवश्यकता है|

ई-कॉमर्स की समस्याएं

कई छोटे / मध्यम उद्यम (एसएमई) भारत के विभिन्न हिस्सों से बसें, अपने प्रोडक्ट्स ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइटों या तीसरे पक्ष (थर्ड पार्टी मार्केटप्लेस) की वेबसाइटों के माध्यम से बेचते है, अब उनके लिए भी टैक्स अनिवार्य है I

जीएसटी की दरें क्या हैं? क्या जीएसटी के तहत महंगा / सस्ता हो रहा है?
जीएसटी कर पांच हिस्सों में वर्गीकृत होती है 0%, ५%, १२%, १८%, २८%

भारत में जीएसटी के लिए आवेदन कैसे करें?

जीएसटी एप्लीकेशन की प्रक्रिया सिर्फ ऑनलाइन की जा सकती है, यह प्रक्रिया बहोत ही सरल है, कोई भी व्यक्ति या व्यवसाय GSTIN नंबर पाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकता है। व्यक्तियों, नवनिर्मित कंपनियों और जीएसटी चिकित्सकों के लिए प्रक्रिया अलग-अलग है। इस प्रक्रिया के लिए पैन कार्ड, यूआईडी कार्ड, कंपनी के पैन कार्ड, कंपनी registration सर्टिफिकेट जैसे दस्तावेज़ उपलब्ध कराये जाने की आवश्यकता है।

https://www.gst.gov.in/ एक आधिकारिक GST वेबसाइट है जहां करदाता या नया व्यवसाय उपयुक्त क्रेडेंशियल के साथ आसानी से पंजीकरण कर सकता है। सरकार ने एक मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया है जहां आप जीएसटी के लिए पंजीकरण / आवेदन कर सकते हैं।

यह एक बड़ा लेख था मुझे पूरा यकीन है कि इस आलेख ने आपके सभी प्रश्नों और जीएसटी के बारे में प्रश्नों को संतुष्ट किया है। यदि आप लोगों को जानकारी प्रसारित करने के हमारे विनम्र प्रयास को पसंद करते हैं, तो कृपया नीचे कमेंट कीजिये और अधिक काम करने के लिए हमें प्रेरित करें। हम आपकी प्रतिक्रियाओं को पढ़ना पसंद करते हैं|

Liked the Post? then Rate it Now!!
[Total: 3 Average: 3.7]

Didn't find what you were looking for?

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

About the author

Sueniel

He is a techie, geek or you can call him a nerd too. He likes to read, observe stuff and write about it. As Simple as that...

He is also CEO and Co-Founder of TeenAtHeart.